इंतेज़ार शायरी हिन्दी में पढ़िए

intezaar shayari hindi mein padhiye

तुझसे दूर तो हैं पर हमेशा तुझे अपनी यादों में पाते हैं,
हर पल दिल में सजी तेरी तस्वीफ को देखा करते हैं,
हर पल तेरे साथ बिताये लम्हो को याद किया करते है,
याद में तेरी हम तो हर पल बस आंसू ही बहाया करते हैं।
हम रोना नहीं चाहते पर तेरी याद रुला ही जाती हैं,
हम तुझे याद नहीं करना चाहते पर तेरी याद आ ही जाती है।
नहीं ऐसा नहीं है की तुझसे दूर होने से हम तुम्हे भूलना चाहते है,
पर यह भी सच है की हम तेरी बाहों के बिना मरना नहीं चाहते।
जल्द ही लौट कर आएंगे हम,
फिर कभी तुझसे दूर ना जायेंगे हम।
हो सके तो हमारी मजबूरी को समझना,
हो सके तो हमसे तुम रूठ न जाना।
क्या करें हम तेरे पास आना तो चाहते है,
पर मजबूरी ही ऐसी है की आ नहीं पाते हैं।
पर हर मजबूरी को तोड़कर,
जल्द ही लौट कर आएंगे हम यकीन करो हमारा,
हो सके तो तुम इंतज़ार करना हमारा।

Read more